Wednesday, 3 January 2018

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच की पहली ही गेंद पर कपिल देव ने किया था बड़ा कारनामा


रंगभेद की नीतियों के कारण दो दशक से लंबा प्रतिबंध झेलने के बाद 1991 में दक्षिण अफ्रीकी टीम की क्रिकेट में वापसी हुई। उससे पहले तक भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच कोई टेस्ट मैच नहीं खेला गया था। दोनों टीमों के बीच पहला टेस्ट 1992 में 13 से 17 नवंबर तक डरबन में खेला गया था।


भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग का फैसला किया। मैच की पहली ही गेंद पर कपिल देव ने ओपनर जिमी कुक को सचिन तेंदुलकर के हाथों कैच करा दिया। यह टेस्ट इतिहास में पहला मौका था जब दो टीमों के बीच पहले ही मुकाबले में कोई बल्लेबाज पहली गेंद पर आउट हो गया। खास बात है कि जिमी कुक अपने टेस्ट करियर का आगाज भी कर रहे थे।

उससे पहले कुल 16 बार कोई बल्लेबाज मैच की पहली गेंद पर आउट हुआ। खुद कपिल देव ने 1983-84 में पाकिस्तान के मोहसिन खान को टेस्ट मैच की पहली गेंद पर आउट किया था। लेकिन, उनमें से कोई भी मुकाबला दो टीमों के बीच पहला टेस्ट मैच नहीं था।

अब तक कुल 31 बार टेस्ट मैच की पहली ही गेंद पर कोई बल्लेबाज आउट हो चुका है। सबसे आखिरी बार ऐसे आउट होने वाले बल्लेबाज भारत के लोकेश राहुल हैं। वे श्रीलंका के खिलाफ 2017 में कोलकाता टेस्ट में पहली गेंद (गेंदबाज सुरंगा लकमक) पर आउट हो चुके हैं।

भारत के ही सुनील गावस्कर और बांग्लादेश के हनन सरकार सबसे ज्यादा तीन-तीन बार टेस्ट मैच की पहली ही गेंद पर आउट हो चुके हैं। कपिल देव, जीजी ऑर्नाल्ड, रिचर्ड हैडली, पीटी कॉलिंग ही ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने एक से अधिक मौके पर टेस्ट मैच की पहली ही गेंद पर विकेट हासिल किया है।