Monday, 15 January 2018

जीत मिले या हार भुवनेश्वर को ड्रॉप कर विराट कोहली ने अच्छा नहीं किया



टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में जोरदार वापसी की। इसके बावजूद इस टेस्ट मैच में तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को बाहर रखने का फैसला क्रिकेट प्रेमियों के गले नहीं उतर रहा। कुछ विशेषज्ञ इसे विराट कोहली के करियर का सबसे खराब फैसला मान रहे हैं।


केपटाउन में टीम इंडिया को 72 रन से हार झेलनी पड़ी थी। इसके बाद उम्मीद थी कि भारतीय टीम में कुछ बदलाव किए जा सकते हैं। शिखर धवन, रिद्धिमान साहा और रोहित शर्मा को बाहर किए जाने की आशंका थी। रिद्धिमान चोटिल होने के कारण बाहर हुए। धवन दोनों पारियों में खराब शॉट खेलकर आउट होने वजह से बाहर हुए। रोहित टीम में बने रहे। भुवनेश्वर कुमार को किस आधार पर बाहर किया। उस भुवनेश्वर कुमार को जिसने लगभग अकेले दम पर टीम इंडिया को पहले टेस्ट मैच में मुकाबले में बनाए रखा था। जिसने न सिर्फ सबसे ज्यादा विकेट लिए, बल्कि बैटिंग में भी बेहद भरोसेमंद लगे। अगर ऐसे खिलाड़ी को बाहर करेंगे, तो भला आपके लिए कोई कोशिश भी क्यों करेगा।

विराट ने टॉस के वक्त बताया कि उन्होंने अतिरिक्त उछाल की उम्मीद में भुवनेश्वर की जगह इशांत शर्मा को टीम में शामिल किया। अगर ऐसा ही था तो जसप्रीत बुमराह या मोहम्मद शमी की जगह इशांत को ले आते। बुमराह और शमी दोनों ही पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में फ्लॉप रहे थे। दूसरे टेस्ट मैच के पहले दिन भी ये गेंदबाज खास खेल नहीं दिखा पाए।

अगर टीम इंडिया दूसरा टेस्ट मैच हार गई तो भुवनेश्वर को बाहर करने के लिए विराट कोहली को भारी आलोचना झेलनी पड़ सकती है। भारतीय कप्तान यही दुआ कर रहे होंगे कि टीम इस मैच को जीतकर सीरीज में बराबरी हासिल कर ले।