Showing posts with label Stats. Show all posts
Showing posts with label Stats. Show all posts

Monday, 23 November 2020

टीम इंडिया 39 साल बाद 200 दिन से ज्यादा के इंतजार के बाद खेलेगी मैच

भारतीय क्रिकेट टीम 27 नवंबर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला खेलने उतरेगी। इस तरह टीम इंडिया 272 दिनों के बाद कोई अंतरराष्ट्रीय मुकाबला खेलेगी। इससे पहले भारत का आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच 29 फरवरी, 2020 को न्यूजीलैंड के खिलाफ क्राइस्टचर्च में शुरू हुआ था। अगर उस टेस्ट मैच की समाप्त के दिन के हिसाब से देखें तो भारत 270 दिनों के इंतजार के बाद कोई मुकाबला खेलने जा रहा है।

भारत के दो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों के शुरू होने की तारीख के बीच 272 दिन का अंतर अपने आप में बहुत बड़ा है। लेकिन, यह भारत के दो मैचों के बीच सबसे अधिक दिन के फासले के रिकॉर्ड के आसपास भी नहीं है। इस आर्टिकल में हम आपको उन मौकों के बारे में बताएंगे जब भारत के दो मुकाबलों के बीच 200 दिनों से अधिक का अंतर रहा हो।

इससे पहले ऐसा मौका 28 साल पहले 1992 में आया था। तब भारत के दो मुकाबलों के बीच 218 दिनों का अंतर था। भारत ने ऑस्ट्रेलिया में हुए वर्ल्ड कप के तहत 15 मार्च 1992 को एडिलेड में मुकाबला खेलने बाद सीधे 18 अक्टूबर 1992 को जिम्बाब्वे के खिलाफ टेस्ट मैच खेलने उतरी थी। उससे पहले 1981 (257 दिन), 1980 (295 दिन), 1978 (246 दिन), 1977 (294 दिन), 1975-76 (224 दिन) में भी भारत के दो मुकाबलों के बीच 200 से 300 दिनों के बीच का अंतर था।

पहले भारतीय टीम अप्रैल से लेकर सितंबर तक के महीनों में तब ही क्रिकेट खेलती थी जब वह या तो इंग्लैंड के दौरे गई हो या श्रीलंका के। श्रीलंका को 1976 में टेस्ट प्लेइंग कंट्री का दर्जा मिला था। यानी उससे पहले टीम इंडिया अप्रैल से लेकर सितंबर के महीनों तभी क्रिकेट खेल पाती जब वह इंग्लैंड के दौरे पर जाती थी। कभी-कभी ऑस्ट्रेलिया दौरे की शुरुआत सितंबर में हो जाती थी।

अब बात उन मौकों की करते हैं जब भारत के दो मैचों के बीच 300 से ज्यादा दिनों का अंतर रहा था। भारत के हिस्से ऐसा मौका उसके पहले अंतरराष्ट्रीय मैच के बाद ही आ गया था। 1932 में अपने पहले टेस्ट मैच की शुरुआती तारीख के 538 दिनों के बाद भारत को दूसरा टेस्ट खेलने का मौका मिला था। इसके बाद कुल 11 मौके आए जब भारत को दो मैचों की शुरुआत में 400 से लेकर 3,500 से ज्यादा दिनों तक इंतजार करना पड़ा था। भारत के दो मैचों की शुरुआत के बीच सबसे लंबा फासला 3,598 दिनों का है। यानी 9 साल, 10 महीने, 7 दिनों का इंतजार। 15 अगस्त, 1936 से शुरु हुए टेस्ट मैच को खेलने के बाद भारत ने अगला मुकाबला 22 जून 1946 को खेला था। इस फासले में दूसरे विश्व युद्ध की प्रमुख भूमिका थी। साथ ही भारत में स्वतंत्रता आंदोलन भी चल रहा था।

कब-कब करना पड़ा 200 से ज्यादा दिनों तक इंतजार

15 मार्च 1992 से 18 अक्टूबर 1992 (218 दिन)

15 फरवरी 1980 से 6 दिसंबर 1980 (295 दिन)

28 जनवरी 1978 से 1 अक्टूबर 1978 (246 दिन)

11 फरवरी 1977 से 2 दिसंबर 1977 (294 दिन)

14 जून 1975 से 24 जून 1976 (224 दिन)

6 फरवरी 1973 से 6 जून 1974 (485 दिन)

24 दिसंबर 1969 से 18 फरवरी 1971 (421 दिन)

7 मार्च 1968 से 25 सितंबर 1969 (631 दिन)

19 मार्च 1965 से 13 दिसंबर 1966 (634 दिन)

13 अप्रैल 1962 से 10 जून 1964 (637 दिन)

2 नवंबर 1956 से 28 नवंबर 1958 (756 दिन)

28 मार्च 1953 से 1 जनवरी 1955 (644 दिन)

4 फरवरी 1949 से 2 नवंबर 1951 (1001 दिन)

17 अगस्त 1946 से 28 नवंबर 1947 (468 दिन)

15 अगस्त 1936 से 22 जून 1946 (3,598 दिन)

10 फरवरी 1934 से 27 जून 1936 (868 दिन)

25 जून 1932 से 15 दिसंबर 1933 (538 दिन)

नोटः इसमें सभी तारीखें मैच शुरू होने के दिन की हैं

नोटः न्यूजीलैंड के खिलाफ इस साल की शुरुआत में न्यूजीलैंड में हुई टेस्ट सीरीज के बाद भारत को अपने देश में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मुकाबले खेलने थे लेकिन वे रद्द हो गए। धर्मशाला में पहला मैच तो बारिश में धुला था लेकिन, इसके बाद के मुकाबले कोरोना महामारी के कारण रद्द किए गए थे।

Thursday, 1 March 2018

टीम इंडिया चार मैच जीत कर दक्षिण अफ्रीका का इतना बड़ा रिकॉर्ड तोड़ देगी

दक्षिण अफ्रीका में जोरदार प्रदर्शन के बाद अब टीम इंडिया श्रीलंका में टी-20 ट्राई सीरीज निदाहास ट्रॉफी में हिस्सा लेने वाली है। 6 मार्च से शुरू हो रही इस सीरीज में भारतीय टीम अगर चार मैच जीतने में सफल रहती है तो वह टी-20 में सबसे ज्यादा मैच जीतने वाली टीमों की सूची में दक्षिण अफ्रीका को पीछे छोड़ कर दूसरे नंबर पर आ जाएगी।

भारत ने अब तक जीते हैं इतने मैच

Wednesday, 28 February 2018

टीम इंडिया को ट्राई सीरीज में रोहित शर्मा से ज्यादा सुरेश रैना से होगी उम्मीद, जानिए क्यों

दक्षिण अफ्रीका में शानदार जीत के बाद अब टीम इंडिया का अगला लक्ष्य श्रीलंका में 6 मार्च से शुरू हो रही ट्राई सीरीज का खिताब जीतना है। भारत ने निदाहास ट्रॉफी टी-20 ट्राई सीरीज के लिए कई अहम खिलाड़ियों को आराम दिया है। ऐसे में टीम इंडिया और उसके फैंस कप्तान रोहित शर्मा से अच्छे प्रदशर्न की आस लगाए बैठे हैं। हालांकि सुरेश रैना श्रीलंकाई जमीन पर रोहित से ज्यादा कारगर साबित हो सकते हैं। चलिए जानते हैं कि ऐसा क्यों है।
रैना ने बनाए हैं श्रीलंका में ज्यादा रन

Monday, 25 December 2017

2017 में टीम इंडिया ने किसे कितनी बार हराया



साल 2017 खत्म हो गया और इसमें टीम इंडिया ने तीनों फॉर्मेट मिलाकर सबसे ज्यादा 37 मैच जीते हैं। इस साल इतने मैच कोई और टीम नहीं जीत सकी है। 24 जीत के साथ दक्षिण अफ्रीका दूसरे और 23 जीत के साथ इंग्लैंड तीसरे स्थान पर है। पाकिस्तान को 22 जीत मिली और वह चौथे स्थान पर है। चलिए इसी बात पर हम जान लेते हैं कि इस साल भारत ने सबसे ज्यादा किसे हराया है।

Wednesday, 20 December 2017

क्या टीम इंडिया तोड़ देगी 2017 में सबसे ज्यादा टी-20 मैच जीतने का पाकिस्तान का रिकॉर्ड


भारतीय टीम ने ट्वेंटी 20 सीरीज का शानदार आगाज करते हुए पहले मुकाबले में श्रीलंका को 93 रन से हरा दिया। श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट और वनडे सीरीज में भारत को पहले मैच में जीत नहीं मिली थी। लिहाजा, इस बार विजयी आगाज करना भारतीय टीम के लिए वाकई सुखद रहा। इस जीत के साथ ही भारत ने इस साल सबसे ज्यादा ट्वेंटी 20 मैच जीतने के मामले में अफगानिस्तान की बराबरी कर ली है। अब सिर्फ पाकिस्तान ही टीम इंडिया से आगे है।

Tuesday, 19 December 2017

युजवेंद्र चहल के पास है इस साल का टॉप ट्वेंटी-20 विकेट टेकर बनने का मौका, बुमराह भी ज्यादा पीछे नहीं


भारत और श्रीलंका की टीमें इस साल 20 दिसंबर से तीन मैचों की ट्वेंटी 20 सीरीज खेलना शुरू करेगी। टेस्ट और वनडे के बाद टीम इंडिया की निगाहें इस सीरीज में भी जीत दर्ज करने पर लगी होंगी। इस सीरीज में भी भारत के खिलाड़ियों के पास कई रिकॉर्ड बनाने का मौका होगा। इसी में एक मौका लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल के पास होगा।